चलो तो सही

“चलो तो सही” – RhYmOpeDia

चलो तुम्हारी आँखों में अपना शहर बसाते हैं,
चलो तुम्हारी हसीं से अपना जहाँ रोशन करते हैं,
चलो तुम्हारी आवाज़ को अपना संगीत बनाते हैं,
चलो तुम्हारी चाल को अपनी चाल बनाते हैं,
चलो तुम्हारे हाथों को थाम कर दूर तक का सफर करते हैं,
चलो तुम्हारे बातों के साथ सुबह-शाम करते हैं,
चलो तुम्हारे खामोशियों से बात करते हैं,
चलो तुम्हारे मासूमियत से इश्क फरमाते हैं,
चलो तुम्हारे खुशबू को इत्र बना इस्तेमाल करते हैं
चलो तुम्हारे झलक के साथ रोज़ा खत्म करते हैं,
चलो तुम्हारे साथ होली-‌ दीवाली मनाते हैं,
चलो तुम्हें अपनी ज़िन्दगी बनाते हैं,
चलो तो सही तुम्हारे साथ जिंदगी बिताते हैं।

तुम दूर तक साथ तो चलोगी ना?
मुझे गिरते हुए सम्हाल तो लोगी ना?
मेरा साथ तो दोगी ना?
मेरे गलतियों को थोड़ा माफ़ तो कर दोगी ना?
तुम खुद से रूबरू होने दोगी ना?
मुझे अपना जिंदगी तो बनाओगी ना?
तो फिर चलो हम साथ जिंदगी बिताते है।


If you have any experience of this type of situation, you are free to share in the comment box.


Friends, if you have any questions, suggestions, feedback regarding this post , you can leave in the comment box. And if you like reading my work, do share it with your friends (on whatever social media you deem appropriate). It would be amazing to have more people reading my compositions. Please help my infinity grow bigger ∞


This content , ‘ चलो तो सही ‘ is under copyright of RhYmOpeDia.

imkeshavsawarn |unknown

© 2019 RhYmOpeDia


The First Things You Should do here at RhYmOpeDia:

  • If You’re New to RhYmOpeDia :Don’t forget to SIGN-IN on the Join Up With WordPress Kins Page to connect with other beautiful bloggers. Sign in Here – Join Up With WordPress Kins.
  • Follow RhYmOpeDia for further unclutched poems.

Advertisements

Will You Take A Chance?

“Will You Take A Chance?” – RhYmOpeDia

Hey,
If you feel to cry, I will not let you try.
Hey,
If you think you are sad, I’ll be shoulder to your head.
Hey,
If you feel any alone, just give me a phone.
Hey,
If you feel so proud, I’ll be your crowd.
Hey,
If you feel us some apart, look inside your heart.
Hey,
If you have some pain, we’ll bring it to the chain.
Hey,
If anything goes bad, I’ll not let you get sad.
Hey,
If you go through mood swings, I’ll bear your mood.
Hey,
If you feel not well, I’ll hold your hand.
Hey,
If you need someone, I’ll first with you.

Hey,
Will you take a chance to give me a chance to be your partner?
Hey,
Will you take a chance to give me a chance to hold you hand ?
Hey,
Will you take a chance to give me a chance to bear your mood?
Hey,
Will you take a chance to give me a chance to make you happy?
Hey,
Will you take a chance to give me a chance to release your pain?
Hey,
Will you take a chance to give me a chance to be in the core of your heart?
Hey,
Will you take a chance to give me a chance to be your crown?
Hey,
Will you take a chance to give me a chance to be your partner on your phone?
Hey,
Will you take a chance to give me a chance to make available my shoulder to you in need?
Hey,
Will you take a chance to give me a chance to not let you cry?
Hey,
Will you take a chance to be my boost for life?


If you have any experience of this type of situation, you are free to share in the comment box.


Friends, if you have any questions, suggestions, feedback regarding this post , you can leave in the comment box. And if you like reading my work, do share it with your friends (on whatever social media you deem appropriate). It would be amazing to have more people reading my compositions. Please help my infinity grow bigger ∞


This content , ‘ Will You Take A Chance? ‘ is under copyright of RhYmOpeDia.

imkeshavsawarn |unknown

© 2019 RhYmOpeDia


The First Things You Should do here at RhYmOpeDia:

  • If You’re New to RhYmOpeDia :Don’t forget to SIGN-IN on the Join Up With WordPress Kins Page to connect with other beautiful bloggers. Sign in Here – Join Up With WordPress Kins.
  • Follow RhYmOpeDia for further unclutched poems.

तुम पुछते हो

“तुम पुछते हो” – RhYmOpeDia

तुम पुछते हो, मुझे उसमें क्या पसंद है?
उसकी बातें पसंद हैं
उसकी शरारतें पसंद हैं
उसकी हल्की भूरी आँखें
उसके होंठों के निचे तिल
और उसकी मुस्कान पसंद है।
उसकी दोस्ती पसंद है
उसकी आवाज पसंद है
उसकी रंगीन शख़्सियत
उसकी हर एक छोटी से छोटी अदाएं
उसका कातिलाना अंदाज पसंद है।
और तुम पुछते हो, मुझे उसमें क्या पसंद है।

तुम पुछते हो, मुझे उससे क्यों प्यार है?
तो मेरी मोहब्बत का राज़ तुम
उन हवाओं से पूछो जो आज उसे छूने के बाद बावरी हो गई,
उन वादियों की खुबसूरती से पूछो जो उसके सामने पल भर टीक न पाई,
उन बारिश के बूंदों से पूछो जो उससे रूबरू होने इतनी दूरी तय कर धरती पर आई,
उन फूलों से पूछो जो उससे मिलने से पहले अपने खुशबू पर इतराया करती थी,
उन पक्षियों से पूछो जो कभी अपने मधुर आवाज को लेकर जानी जाती थी,
और तुम पुछते हो, मुझे उससे प्यार क्यों है।

तुम पुछते हो, मुझे वो इतनी खास क्यों है?
तो क्या कभी आसमान से पूछा है कि वह नीला क्यों है?
क्या कभी सुरज से पूछा है कि वह इतना ज्वलनशील क्यों है?
क्या कभी चांद से पूछा है कि वह खुबसूरत क्यों है?
क्या कभी धरती से पूछा है कि वह गोल क्यों है?
क्या कभी खुशबू से पूछा है कि वह खुशनुमा क्यों है?
क्या कभी दिन से पूछा है कि वह रात के बाद क्यों है?
क्या कभी कश्मीर से पूछा है कि वह स्वर्ग क्यों है?
और तुम पुछते हो, मुझे वो इतनी खास क्यों है।

तुम पुछते हो, मुझे वह कैसी पसंद है?
हंसते- खिलखिलाते पसंद है
मंद-मंद मुस्कुराते पसंद है
कभी-कभार गुस्साते पसंद है
जल्दी-जल्दी बोलते पसंद है
आदाब में हिचक पसंद है
चेहरे पर हया पसंद है
नखरो के संग अभियान करते पसंद है
आंखों से बात जाहिर करते पसंद है
वह जैसी है वैसी ही पसंद है
वह मुझको काले कमीज़ में बेहद पसंद है
और तुम पुछते हो, मुझे वह कैसी पसंद है।


If you have any experience of this type of situation, you are free to share in the comment box.


Friends, if you have any questions, suggestions, feedback regarding this post , you can leave in the comment box. And if you like reading my work, do share it with your friends (on whatever social media you deem appropriate). It would be amazing to have more people reading my compositions. Please help my infinity grow bigger ∞


This content , ‘ तुम पुछते हो ‘ is under copyright of RhYmOpeDia.

imkeshavsawarn |unknown

© 2019 RhYmOpeDia


The First Things You Should do here at RhYmOpeDia:

  • If You’re New to RhYmOpeDia :Don’t forget to SIGN-IN on the Join Up With WordPress Kins Page to connect with other beautiful bloggers. Sign in Here – Join Up With WordPress Kins.
  • Follow RhYmOpeDia for further unclutched poems.

You Know Nothing

“You Know Nothing” – RhYmOpeDia

Dear Crush,

I could say Dear first crush,
But to be honest
There was someone else before you,
Someone who didn’t get away,
But someone I let go.
Well, thanks to you.

I’m not sure if you knew for certain,
My feelings before I confessed to you,
But I don’t regret letting you know.

However, there are some things,
I didn’t let you know,
Like the time I walked through your picture,
Although they were attractive
But unwillingly i couldn’t stop myself from reacting to that.

Or the time I hovered over WhatsApp for you,
You didn’t know about it.
And checking you on insta, fb
You didn’t know that either.
Or the time i make out to chat with you.
Or the time I watched you,
Literally walk out of my life,
You don’t know nothing about.

You don’t even know that –
If I said I wanted to date you,
Then know that I want to date all of you,
Your insecurities, and your ambitions,
Your body and mind.

There is one more thing you don’t know,
Believe me when I say-
That you are my best heartbreak, yet.
Please don’t forget me.


If you have any experience of this type of situation, you are free to share in the comment box.


Friends, if you have any questions, suggestions, feedback regarding this post , you can leave in the comment box. And if you like reading my work, do share it with your friends (on whatever social media you deem appropriate). It would be amazing to have more people reading my compositions. Please help my infinity grow bigger ∞


This content , ‘ You Know Nothing ‘ is under copyright of RhYmOpeDia.

imkeshavsawarn |unknown

© 2019 RhYmOpeDia


The First Things You Should do here at RhYmOpeDia:

  • If You’re New to RhYmOpeDia :Don’t forget to SIGN-IN on the Join Up With WordPress Kins Page to connect with other beautiful bloggers. Sign in Here – Join Up With WordPress Kins.
  • Follow RhYmOpeDia for further unclutched poems.

सच्चाई

आज फिर मैंने उसे पिटते देखा था,
मदद की उम्मीद में नजरों को दौड़ाते देखा था,
दर्द से डूबी आवाज को कड़ाहते देखा था,
पंद्रह- बीस हट्टे – कठ्ठे नौजवानों को लाचार सा दर्शक बनते देखा था,
किसी बलशाली को अपना बाहुबल किसी लाचार पर बरसाते देखा था,
और उसी सड़क के किनारे से उस पल मैं भी गुजर रहा था,
सोचा भी था कि जाके उसकी मदद करू,
जा के पुछू् कि क्यूं मार रहे हो भाई….. आखिर इसकी ग़लती क्या है?
गलती कुछ भी हो पर इसे इस पीड़ा से जरूर बचाऊंगा,
ऐसा ही मैंने सोचा था,
उन काफिड़ो कि भीड़ में हीरो बनने का सुनहरा मौका था,
एक सुंदर सी कहानी का जादूई पात्र बनने का मौका था,
जिसकी कहानी में सब बच्चों को सुनाता,
पर न जाने क्यों मेरे पैर ने मानो मेरे सोच से बैर कर लिया हो,
दिल चिल्ला रहा था मदद करो,
पर दिमाग ने बोला तेरा क्या जाता है आगे बढ़ो,
एक बार फिर दिल और दिमाग की लड़ाई में दिल हार गया,
उसे यूं ही पिटते उसकी हालत पर छोड़ मैं आगे बढ़ आया,
दिल से एक आवाज आयी – भाई उन काफिड़ो कि फौज में स्वागत है तुम्हारा,
इसे सुनते ही फिर पूछा दिमाग से – कही मेरे मदद की ही तो जरूरत नहीं थी उसे?
और जवाब आया – कोई और मदद कर देगा,
तेरा कौन है भाई?
इतने देर में मैं तो उसे उसकी हालत पर छोड़ आगे बढ़ गया था,
और इसी तरह मैंने आज उसे फिर पिटते देखा।


If you have any experience of this type of situation, you are free to share in the comment box.


Friends, if you have any questions, suggestions, feedback regarding this post , you can leave in the comment box. And if you like reading my work, do share it with your friends (on whatever social media you deem appropriate). It would be amazing to have more people reading my compositions. Please help my infinity grow bigger ∞


This content , ‘ सच्चाई ‘ is under copyright of RhYmOpeDia.

imkeshavsawarn |Manish Kumar

© 2018 RhYmOpeDia


The First Things You Should do here at RhYmOpeDia:

  • If You’re New to RhYmOpeDia :Don’t forget to SIGN-IN on the Join Up With WordPress Kins Page to connect with other beautiful bloggers. Sign in Here – Join Up With WordPress Kins.
  • Follow RhYmOpeDia for further unclutched poems.

आज कुछ अलग-सा लिख रहा हूं

आज कुछ अलग-सा लिख रहा हूं,
बस उसे सोच कर शब्दों को जोड़ रहा हूं,
वो लम्हे, वो बिताए हुए पलों को
बड़ी खुबसुरती से कैद कर सजा रहा हूं।

आज कुछ हसीन-सा लिख रहा हूं,
बात पहली मुलाकात की कर रहा हूं,
वो नैनों की लड़ाई, और बात-बात पर झगड़ना
और फिर प्यार से मनाना लिख रहा हूं।
आज कुछ अलग-सा लिख रहा हूं,
बात थोड़े इजहार की लिख रहा हूं,
बात थोड़े तेरे-मेरे साथ की लिख रहा हूं,
वो यादें, वो बेवजह कई वक़्त तक
साथ बैठ जानें की लिख रहा हूं,
वो वादे, वो कसमें सब याद कर
तेरे बातों को लिख रहा हूं,
आज कुछ मदहोशी-सा लिख रहा हूं।

मुलाकात, इजहार, इकरार सब लिख दिया
कलम ने मेरे,
आगे भी लिखना चाहता था पर
ये थम-सा गया बेचारा,
बात,
बात शायद बेवफाई की ये लिख ना पाया,
आज वही अधूरा-सा मुलाकात लिख रहा हूं,

आज उन्हीं ख़्वाबों को लिख रहा हूं,
जिसे लिखने से मेरा कलम भी डरता है,
और मालूम नहीं क्यूं पर ये हाथ भी लिखने वक़्त रूक-सा जाता है,
जिसे सोचकर मेरा रूह आज भी थड़ा-सा जाता है,
शायद आज भी जिसे ये पागल-सा दिल कुबुल नहीं कर पाया है,
आज उन्हीं टूटे हुए अरमानों को लिख रहा हूं,
आज फिर अपना अधूरा ख्यालात लिख रहा हूं…


Friends, if you have any questions, suggestions, feedback regarding this post , you can leave in the comment box. And if you like reading my work, do share it with your friends (on whatever social media you deem appropriate). It would be amazing to have more people reading my compositions. Please help my infinity grow bigger ∞


This content , ‘ आज कुछ अलग-सा लिख रहा हूं ‘ is under copyright of RhYmOpeDia.

imkeshavsawarn |Manish Kumar

© 2018 RhYmOpeDia


The First Things You Should do here at RhYmOpeDia:

  • If You’re New to RhYmOpeDia :Don’t forget to SIGN-IN on the Join Up With WordPress Kins Page to connect with other beautiful bloggers. Sign in Here – Join Up With WordPress Kins.
  • Follow RhYmOpeDia for further unclutched poems.

Confusion

My mouth wants to speak,
But no sound escapes.
My body wants to move,
But my brain doesn’t listen.
My heart wants to memorize,
But my senses always denied .
Why even my desire refused by myself?
Why am I so broken?
Why is it so hard?

I can’t let you see how vulnerable I’m,
I can’t give an inch,
Or I feel like I’ll lose it all.
Why do i still bother to try?
When I can’t even lift a finger in your direction.

To hold your hand,
To let you know how much I need you, When all I want is for you to hold me,
But I sit in silence,
Silently Frozen.

I’ve forgotten what it’s like to just be in the moment with you,
You see, my heart’s gone cold to preserve what little is left of me.
So I often wonder.
Why do i still love you?
When you’re nothing left except the garbage,
And why do you still love me?
When I’m nothing but broken pieces of who I used to be?


If you have the answer, you’re most welcome in the comment box.


Friends, if you have any questions, suggestions, feedback regarding this post , you can leave in the comment box. And if you like reading my work, do share it with your friends (on whatever social media you deem appropriate). It would be amazing to have more people reading my compositions. Please help my infinity grow bigger ∞


This content , ‘ Confusion ‘ is under copyright of RhYmOpeDia.

imkeshavsawarn |

© 2018 RhYmOpeDia


The First Things You Should do here at RhYmOpeDia:

  • If You’re New to RhYmOpeDia :Don’t forget to SIGN-IN on the Join Up With WordPress Kins Page to connect with other beautiful bloggers. Sign in Here – Join Up With WordPress Kins.
  • Follow RhYmOpeDia for further unclutched poems.

मालूम नहीं

यह जो लड़ाई थी,
जिसमें शामिल न तुम थे,
न हम थे,
फिर भी न जाने क्यों ये गरदीस थी?
ये मौसम कि रूहानियत थी,
वो हवा कि सर- सराती हुई बेरूखी थी,
और सांसों की गिनती भी कम थी,
और ऐसे में भी,
तुम्हारा न आना तय था।

मैं आज कि नहीं, उन लम्हों कि बात कर रहा हूं,
जब तुमने, छुआ था मेरे दिल के इस तार को,
और बड़ी मासूमियत से, तोड़ा था उस दिल के हाल को,
सच कहता हूं , वो जो वक्त ठहरा था मेरे आस-पास,
उसकी याद, आज भी आंखें नम कर जाती है,
शायद,
वह समर जो दुनिया वाले भूल चुके हैं,
वो दंगे, वो लड़ाई, आज भी होती है,
मेरे दिल के इस दरवाजे पे।

कितना समझाया इसे, पर यह मानता भी तो नहीं है,
तैयार है ये,
उन धूल खाते दर्द को फिर से तरोताजा करने को,
जो अपनी निशाना छोड़ गई थी बरसों पहले,
मालूम नहीं,
ये उस दर्द को इक बार फिर से झेल पाएगा कि नहीं,
मालूम नहीं,
ये उस जुदाई को फिर से सह पाएगा कि नहीं,
मालूम नहीं,
ये उन आंखों से गिरते हुए आंसू को फिर से रोक पाएगा कि नहीं,
मालूम नही,
ये सांसों की गिरती हुई रफ्तार को फिर से जोड़ पाएगा कि नहीं,
मालूम नहीं………… मालूम नहीं
पर तैयार है यह,
आज एकबार फिर से ऐतवार के लिए।


Friends, if you have any questions, suggestions, feedback regarding this post , you can leave in the comment box. And if you like reading my work, do share it with your friends (on whatever social media you deem appropriate). It would be amazing to have more people reading my compositions. Please help my infinity grow bigger ∞


This content , ‘ मालूम नहीं ‘ is under copyright of RhYmOpeDia.

imkeshavsawarn |

© 2018 RhYmOpeDia


How about this poem?
Like , Comment and Share


The First Things You Should do here at RhYmOpeDia:

  • If You’re New to RhYmOpeDia :Don’t forget to SIGN-IN on the Join Up With WordPress Kins Page to connect with other beautiful bloggers. Sign in Here – Join Up With WordPress Kins.
  • Follow RhYmOpeDia for further unclutched poems.

तुम हो कौन ?

अगर इश्क़ कोई जुर्म नहीं, फिर ये सजा क्यों।
और है नफरत, तो भारत-पाकिस्तान सा रिश्ता क्यों ।।

अगर दर्द कोई है तेरे दिल में, फिर ये बात क्यों।
और है सुकुन, तो ये अस्पताल क्यों।।

अगर रंज कोई है तेरे सोच में, फिर ये तंज क्यों।
और है गीत , तो ये तीर क्यों।।

अगर हो कोई फूल तुम, फिर इतनी दूर्गन्ध क्यों।
और हो कांटा, तो लैला- मजनू सा इश्क क्यों।।

अगर टूटती – बिखरती सी कोई ख्वाब हो तुम, फिर ये अपनापन वाला राबता क्यों।
और हो हकीकत , तो मैं तनहा क्यों।।

अगर अजनबी सी कोई हो तुम, फिर तुम्हें खोने का डर क्यों।
और हो मेरी, तो ये सौतेलापन क्यों। ।

अगर गुनाह सी कोई हो तुम, फिर तुम्हारे पास होने पे इतना सुकुन क्यों।
और हो इबादत, तो ये घबराहट क्यों।।

अगर परेशानी हो कोई तुम, फिर तुम्हारा इतने बेसब्री से इंतजार क्यों।
और हो मददगार , तो बात- बात पर ये पत्थर क्यों।।

अगर झूठ सी कोई हो तुम , फिर सीने में तुम्हारे होने का एहसास क्यों।
और सच हो, तो तुम हो कौन ?

Continue reading तुम हो कौन ?

If I’ll Be A Glass Of Water

If I’ll be a glass of water,
Would you drink me?

Would you take a chance to quench your thirst,
In Love’s desert?

Would you consume that life giving drink,
And allow me to flow through your veins,
To nourish you,
To become a part of you,
To explore the very depths of your soul and cleanse the pains and aches that burden you deeply .

Would you allow me to bring moisture to your parched lips that crave to be kissed?
To bathe your heart in a love that’s pure,
Not tainted with ulterior motives –
Just a clear gift with no additives.

If I’ll be a glass of water,
Would you drink me?

Would you allow me to dance across your tongue to bring life to it,
And teach it how to speak the language of my love?

Would you allow me to trickle down your throat,
And give you the urge to speak words you are too afraid to say?

Would you allow me to cool
your temperature –
Hot from the yearning in Love’s desert?

My love,
If I’ll be a glass of water,
Would you drink me?


Continue reading If I’ll Be A Glass Of Water