मालूम नहीं

यह जो लड़ाई थी,
जिसमें शामिल न तुम थे,
न हम थे,
फिर भी न जाने क्यों ये गरदीस थी?
ये मौसम कि रूहानियत थी,
वो हवा कि सर- सराती हुई बेरूखी थी,
और सांसों की गिनती भी कम थी,
और ऐसे में भी,
तुम्हारा न आना तय था।

मैं आज कि नहीं, उन लम्हों कि बात कर रहा हूं,
जब तुमने, छुआ था मेरे दिल के इस तार को,
और बड़ी मासूमियत से, तोड़ा था उस दिल के हाल को,
सच कहता हूं , वो जो वक्त ठहरा था मेरे आस-पास,
उसकी याद, आज भी आंखें नम कर जाती है,
शायद,
वह समर जो दुनिया वाले भूल चुके हैं,
वो दंगे, वो लड़ाई, आज भी होती है,
मेरे दिल के इस दरवाजे पे।

कितना समझाया इसे, पर यह मानता भी तो नहीं है,
तैयार है ये,
उन धूल खाते दर्द को फिर से तरोताजा करने को,
जो अपनी निशाना छोड़ गई थी बरसों पहले,
मालूम नहीं,
ये उस दर्द को इक बार फिर से झेल पाएगा कि नहीं,
मालूम नहीं,
ये उस जुदाई को फिर से सह पाएगा कि नहीं,
मालूम नहीं,
ये उन आंखों से गिरते हुए आंसू को फिर से रोक पाएगा कि नहीं,
मालूम नही,
ये सांसों की गिरती हुई रफ्तार को फिर से जोड़ पाएगा कि नहीं,
मालूम नहीं………… मालूम नहीं
पर तैयार है यह,
आज एकबार फिर से उस की दस्तखत के लिए।


Friends, if you have any questions, suggestions, feedback regarding this post , you can leave in the comment box. And if you like reading my work, do share it with your friends (on whatever social media you deem appropriate). It would be amazing to have more people reading my compositions. Please help my infinity grow bigger ∞


This content , ‘ मालूम नहीं ‘ is under copyright of RhYmOpeDia.

imkeshavsawarn |

© 2018 RhYmOpeDia


How about this poem?
Like , Comment and Share


The First Things You Should do here at RhYmOpeDia:

  • If You’re New to RhYmOpeDia :Don’t forget to SIGN-IN on the Join Up With WordPress Kins Page to connect with other beautiful bloggers. Sign in Here – Join Up With WordPress Kins.
  • Follow RhYmOpeDia for further unclutched poems.

Advertisements

एकतर्फा प्यार

एकतर्फा प्यार…
अगर सच कहाँ जाये तो उस मुकम्मल प्यार से खूबसूरत और बेहतर होता है यह एकतर्फा प्यार!
एक साफदिल भाव,
वो मुझे चाहे ना चाहे, मै उसे चाहना कभी नही छोडुंगा, ना उससे कभी किसी अपनेपन कि आशा रखुंगा,
बस उसकी खुशी मे ही मेरी खुशी!

दो तर्फे प्यार मे अक्सर हम स्वार्थी बन जाते है,
आशाये रखना शुरु कर देते है और फिर होता है अपेक्षाभंग, दिल टुटना, दर्द, और बहुत सारा मेलोड्रामा!

दुसरी ओर एकतर्फा प्यार बहुत ही पाक, सच्ची, निस्वार्थ भावना है,
पर पता नही फिर भी क्यूं लोग एकतर्फा प्यार से इतना नफरत करते है?

एकतर्फा प्यार…

हमारे इस प्यार को किसी के स्विकृती कि जरुरत नही होती है,
किसी से प्यार करने के लिये किसी के इजाजत कि भी जरुरत नही होती है,
हमारी वजह से उस दिल रूवा के चेहरे पर हसी भी आजाये, तो खुश होते हैं हम!
कभी किसी मुसीबत के वक्त अगर हम उसके काम आ जाए, तो खुश होते हैं हम!
इस प्यार मे भले ही तन्हा होते हैं हम, भले ही वह बदले में नही चाहती हो हमे,
पर उसके सिर्फ आसपास होने से खुश होते हैं हम!
हा! खुश होते हैं हम,
क्यूंकि किसी ओर को हक नही है अब हमारा दिल तोडने का!!!
हा! खुश होते हैं हम,
क्युंकि किसी को हक नही है हमें उसे चाहने से रोकने का…! ❤


Friends, if you have any questions, suggestions, feedback regarding this post , you can leave in the comment box. And if you like reading my work, do share it with your friends (on whatever social media you deem appropriate). It would be amazing to have more people reading my compositions. Please help my infinity grow bigger ∞


This content , ‘ एकतर्फा प्यार ‘ is under copyright of RhYmOpeDia.

imkeshavsawarn |

© 2018 RhYmOpeDia


How about this poem?
Like , Comment and Share


The First Things You Should do here at RhYmOpeDia:

  • If You’re New to RhYmOpeDia :Don’t forget to SIGN-IN on the Join Up With WordPress Kins Page to connect with other beautiful bloggers. Sign in Here – Join Up With WordPress Kins.
  • Follow RhYmOpeDia for further unclutched poems.