तुम हो कौन ?

अगर इश्क़ कोई जुर्म नहीं, फिर ये सजा क्यों।
और है नफरत, तो भारत-पाकिस्तान सा रिश्ता क्यों ।।

अगर दर्द कोई है तेरे दिल में, फिर ये बात क्यों।
और है सुकुन, तो ये अस्पताल क्यों।।

अगर रंज कोई है तेरे सोच में, फिर ये तंज क्यों।
और है गीत , तो ये तीर क्यों।।

अगर हो कोई फूल तुम, फिर इतनी दूर्गन्ध क्यों।
और हो कांटा, तो लैला- मजनू सा इश्क क्यों।।

अगर टूटती – बिखरती सी कोई ख्वाब हो तुम, फिर ये अपनापन वाला राबता क्यों।
और हो हकीकत , तो मैं तनहा क्यों।।

अगर अजनबी सी कोई हो तुम, फिर तुम्हें खोने का डर क्यों।
और हो मेरी, तो ये सौतेलापन क्यों। ।

अगर गुनाह सी कोई हो तुम, फिर तुम्हारे पास होने पे इतना सुकुन क्यों।
और हो इबादत, तो ये घबराहट क्यों।।

अगर परेशानी हो कोई तुम, फिर तुम्हारा इतने बेसब्री से इंतजार क्यों।
और हो मददगार , तो बात- बात पर ये पत्थर क्यों।।

अगर झूठ सी कोई हो तुम , फिर सीने में तुम्हारे होने का एहसास क्यों।
और सच हो, तो तुम हो कौन ?

Continue reading तुम हो कौन ?

Advertisements

SAB SAPNA SA LAGTA HAI

Tanhai bhi kabhi apna sa lagta hai,
Muskura ke dekho to wo bhi sapna sa lagta hai.

Aankh band hote hi bahot apne dekhe hai,
Par aankh khol ke apna milna sapna sa lagta hai.

Sapne mai to kai dhundhle chehre nazar aate hai,
Par ab apna chehra bhi sapna sa lagta hai.

Lal-gulabi-hra-nila kuch keh jaya kati hai,
Par ab kisi se kuch sunn na bhi sapna sa lagta hai.

Band aankho se to kai sapne dekhe hai,
Par khuli aankho se ab sab sapna sa lagta hai .

Mil-jul liya bahot anzano se,
Par abb khud se milna bhi sapna sa lagta hai….
Par ab khud se milna bhi sapna sa lagta hai….

Image Source – Internet

This content, ‘ SAB SAPNA SA LAGTA HAI ‘ is under copyright of RhYmOpeDia.

im_Keshav_Sawarn |

© 2018 RhYmOpeDia

How about this content? Comment!