जरूरी है क्या?

“जरूरी है क्या?” – RhYmOpeDia तुम्हे जी लिया एक बार जिंदगी में, तुम्हे हासिल करना भी जरूरी है क्या? यूंही बातें चलती रही इशारों कि जुवान में, हर बात का मतलब निकालना भी जरूरी है क्या? हर शाम कोई ऐसी हो कि लड़खड़ा जाए दोनों, इश्क़ की राह में सम्हलना भी जरूरी है क्या? हरContinue reading “जरूरी है क्या?”

चलो तो सही

“चलो तो सही” – RhYmOpeDia चलो तुम्हारी आँखों में अपना शहर बसाते हैं, चलो तुम्हारी हसीं से अपना जहाँ रोशन करते हैं, चलो तुम्हारी आवाज़ को अपना संगीत बनाते हैं, चलो तुम्हारी चाल को अपनी चाल बनाते हैं, चलो तुम्हारे हाथों को थाम कर दूर तक का सफर करते हैं, चलो तुम्हारे बातों के साथContinue reading “चलो तो सही”

तुम पुछते हो

“तुम पुछते हो” – RhYmOpeDia तुम पुछते हो, मुझे उसमें क्या पसंद है? उसकी बातें पसंद हैं उसकी शरारतें पसंद हैं उसकी हल्की भूरी आँखें उसके होंठों के निचे तिल और उसकी मुस्कान पसंद है। उसकी दोस्ती पसंद है उसकी आवाज पसंद है उसकी रंगीन शख़्सियत उसकी हर एक छोटी से छोटी अदाएं उसका कातिलानाContinue reading “तुम पुछते हो”

सच्चाई

आज फिर मैंने उसे पिटते देखा था, मदद की उम्मीद में नजरों को दौड़ाते देखा था, दर्द से डूबी आवाज को कड़ाहते देखा था, पंद्रह- बीस हट्टे – कठ्ठे नौजवानों को लाचार सा दर्शक बनते देखा था, किसी बलशाली को अपना बाहुबल किसी लाचार पर बरसाते देखा था, और उसी सड़क के किनारे से उसContinue reading “सच्चाई”

आज कुछ अलग-सा लिख रहा हूं

आज कुछ अलग-सा लिख रहा हूं, बस उसे सोच कर शब्दों को जोड़ रहा हूं, वो लम्हे, वो बिताए हुए पलों को बड़ी खुबसुरती से कैद कर सजा रहा हूं। आज कुछ हसीन-सा लिख रहा हूं, बात पहली मुलाकात की कर रहा हूं, वो नैनों की लड़ाई, और बात-बात पर झगड़ना और फिर प्यार सेContinue reading “आज कुछ अलग-सा लिख रहा हूं”

याद तो है ना

प्यार से थोड़ा कम ही सही, पर प्यार तो है ना। दोस्त से थोड़ा ज्यादा मानता हूं तुम्हें, कुछ बात तो है ना। तुझे, कुछ पता नहीं, पर तेरी हर बात मुझे याद तो है ना। मैं सुखा हुआ जमीन की तरह हूं, मानता हूं तु उसको भींगोने वाली बरसात तो है ना, तु उसकोContinue reading “याद तो है ना”

तुम हो कौन ?

अगर इश्क़ कोई जुर्म नहीं, फिर ये सजा क्यों। और है नफरत, तो भारत-पाकिस्तान सा रिश्ता क्यों ।। अगर दर्द कोई है तेरे दिल में, फिर ये बात क्यों। और है सुकुन, तो ये अस्पताल क्यों।। अगर रंज कोई है तेरे सोच में, फिर ये तंज क्यों। और है गीत , तो ये तीर क्यों।।Continue reading “तुम हो कौन ?”

तेरे चेहरे की तारीफ़ है!

तेरे चेहरे की क्या तारीफ़ है हर चीज़ इसकी बड़ी बारीक है, होठों पर बिखरी ये मुस्कान है करतीं ये लाखों का नुकसान है, नाक के ऊपर कजरारी आँखें है जो सबको उलझाती हैं। पर जनाब, ये चेहरा तो सिर्फ नकाब है ये तो मासूमो को फ़साने का जाल है, कई लोगों को इस चेहरेContinue reading “तेरे चेहरे की तारीफ़ है!”

क्या मुझसे मिलने आयी हो?

क्या मुझसे मिलने आयी हो? कह दो ना तुम, एक बार के लिए ही सही, बस कह दो कि तुम मुझसे मिलने आयी हो, सच कहता हूं, कोई और कारण रोक नहीं पाएगा मुझे, तुमसे मिलने से, बस तुम एक बार कह दो कि तुम मुझसे मिलने आयी हो। सच कहता हूं, अब मुझे फर्कContinue reading “क्या मुझसे मिलने आयी हो?”

ऐहसास

मैं लिखता हूँ, कागज और कलम से प्यार करता हूँ, भूख – प्यास के साथ तकरार करता हूँ, हर पल तेरी मौजूदगी का एहसास करता हूँ, बेरूखी हवाओं में भी तेरी रूह से ऐतवार करता हूँ, बेमौसम की तनहाई में खुद से बात करता हूँ, रात – दिन तेरी यादों के साथ फरियाद करता हूँ,Continue reading “ऐहसास”

पर अब, तुमसे प्यार नहीं है

नींद तो अब भी नहीं आती, भुख तो अब भी नहीं लगती, दिल और दिमाग की लड़ाई तो अब भी होती है, पर अब, तुमसे प्यार नहीं है। तेरे नाम पे आज भी चुप हो जाता हूँ, आज भी बोलते- बोलते लड़खड़ा जाता हूँ, कभी- कभी ही सही, पर तुम्हें याद तो आज भी करContinue reading “पर अब, तुमसे प्यार नहीं है”

Ishq Ki Beemari

Wo aayi to thi kajal laga ke, Lekin chli gyi mere dil ko nazar laga ke. Mil aaya kayi hakim aur pandito se, Laut aaya doctoro ki dehleej se, Le li salah kayi sahalakaro se, Maang li manat raam aur rahim se, Par ye mun dhoondhta hai abb bhi use hi andhere rasto pe, JisContinue reading “Ishq Ki Beemari”

लेकिन अब भी बाकी है

लिखा है अकेले अबतक , अब तुम्हारे साथ लिखना बाकी है। लिखे है मैंने पन्ने कई, लेकिन तुम्हारे बारे में लिखना बाकी है। लिखा है तुम्हारी आँखों के बारे में, लेकिन उसकी नशीली अदाओं के बारे में लिखना बाकी है। लिखा है तुम्हारे होंठो के बारे में, लेकिन उसकी मदहोशी के बारे में लिखना बाकीContinue reading “लेकिन अब भी बाकी है”

Meri Aadate

Maine uss gali mai jaana chhod diya Jis se teri buu aati hai. Mai ne unn rato se bair krr liya Jo teri yaad dilati hai. Maine khud se milna chhod dya, Kyuki wo tumhara hua krta tha. Mai ne saaas lena bhi chor diya Sayad wo hawa tujhe Chuu ke guzri ho. Maine SonaContinue reading “Meri Aadate”

Par Aaj

Bachpan mai aksar ek sawal guzar jaya karta tha, Har 2-4 dino pe, har hafte ya phir mahine, Par guzar ke jarur jaya karta tha, Aakhir Bade hoke kya ban na hai?? Kabhi josh sai keh deta tha doctor, To kabhi Engineer ,pilot , ya phir police, Jawab hamesha badalta pur tayar rehta tha, KiContinue reading “Par Aaj”

Dar lagta hai

Nazdikiya itni hai ki, duriyo se dar lagta hai, Ankho me ghehraiya itni hai , Ki doobne ka man karta hai, Bahe failaye khade hai , kisi k aagman k liye, ye dil beshbar lgta hai, Wo aati hii hogi , bs koi rasta na rok le, isi baat ka dar lgta hai, Uski addaoContinue reading “Dar lagta hai”

Maana ki wo meri Chahat thi

Maana ki wo meri chahat thi, Par wo anjani thi….. Arr anjano se hum pyar krte hai, Katai ishq nahi. Maana ki wo meri chahat thi, Par wo anjani thi…. Anjane aate hai arr chale jaate hai, Buss khwab si hakikat chor jaate hai. Maana ki wo meri chahat thi, Par wo anjani thi…… DilContinue reading “Maana ki wo meri Chahat thi”

SAB SAPNA SA LAGTA HAI

Tanhai bhi kabhi apna sa lagta hai, Muskura ke dekho to wo bhi sapna sa lagta hai. Aankh band hote hi bahot apne dekhe hai, Par aankh khol ke apna milna sapna sa lagta hai. Sapne mai to kai dhundhle chehre nazar aate hai, Par ab apna chehra bhi sapna sa lagta hai. Lal-gulabi-hra-nila kuchContinue reading “SAB SAPNA SA LAGTA HAI”

Mai baat tumhari karta hu

Mai baat tumhari karta hu, Sab kehte hai sayari katrta hu. Pehle to sirf dekha aur socha karta tha, Par na jane ku abb sapne mai bhi tum se baate karta hu, Mai baat tumhari………… Sab kehte hai……………… Mai aksar kuch apni jeb mai rakh ke tumhare pass aata hu, Par na jane kuu binContinue reading “Mai baat tumhari karta hu”

1mai1

This poem i loves to dedicate my loveliest friend ch……and my Bhabhiiji(Lady Don). actually mai ne un dono ke lye likhi hi hai….just enjoy dear ……….@……….@………..@………..@………….. Kuch pyar hote hai jo dur se hi ho jate hai, Kuch pyar hote hai jo pass ho ke bhi kho jate hai. Ye dunya aksar aasiko ke janajeContinue reading “1mai1”

Khayalat

Kuch kehte hai pyar aapko andha bana deta hai, Kuch to pyar ko hi andha bana dete hai, Par kya bolu unse jo pyar mai bhi dekhna chahte hai. Kuch ankho mai khote hai, Kuch bato mai khote hai, Pur apni duniya kuch alag hai, Hum to har ek saas mai khote hai. Kuch passContinue reading “Khayalat”

ThErAuPtIc…LoVe-VIII

But regardless of how quickly you left,  or how much time we spent together,  or whether your leaving was bad enough to be considered ‘heartbreak,’  I’m glad you taught me what love isn’t.  Because it helped me finding the love , which I expecting from you.  Even though it hurt, but your leaving must  led meContinue reading “ThErAuPtIc…LoVe-VIII”

ThErAuPtIc…LoVe-V

I barely even knew you, so you really shouldn’t matter. I shouldn’t do a double-take every time someone who looks like you sits across from me on the metro. I shouldn’t be worrying about what will happen if I run into you when I visit a part of the colony I know you frequent. YourContinue reading “ThErAuPtIc…LoVe-V”

जरिया किताबो का 

ढूंड तो में तुम्हे रहा था, बस जरिया कितबो का था।।   हम तो सोशल मीडिया इस्तेमाल किया करते थे, पर आज बैठ कर यादे लिखे जा रहे है।। जब मालूम ही था की तुम आखरी पन्ने में हो, फिर भी हर पन्ना किसी उम्मीद में बदले जा रहे थे।। में ने तो किताब कीContinue reading “जरिया किताबो का “