मैं हर पल तुझे महसूस करता हूं

“मैं हर पल तुझे महसूस करता हूं” – RhYmOpeDia

इस शहर के हर मोड़ पे अकेला – अकेला सा महसूस करता हूँ ,
घर किसी का भी टूटे, मैं टुटा – टुटा सा महसूस करता हूँ,
दिल में बिछड़ने का दर्द किसी को भी हो, मैं वो दर्द महसूस करता हूं,
प्यार कभी किसी से हुआ नहीं, फिर भी उस प्यार को महसूस करता हूं।
मैं हर पल तुझे महसूस करता हूं।

वो रात जब बादल कर लेते है चांद पर कब्जा और, चांद चाह के भी नहीं निकला पाता है
तब तारों की टिम-टिमाहट में, मैं
तेरे वजूद को महसूस करता हूं,
इस लॉकडाउन में हर पल तुमको महसूस करता हूं,
मैं हर पल तुझे महसूस करता हूं।

जब गो-धूली बेला के समय सुरज की मध्यम सी लाल किरणें मेरे आंखों के सामने से गुजरती है,
उन किरणों में, मैं
तेरे चेहरे की लाली को महसूस करता हूं,
मैं हर पल तुझे महसूस करता हूं।

जब तितलियों की लैला-पुष्पो की खुशबू मेरे पास पहुचती है ,
उन एहसासों के खुशबू में, मैं
तुम्हारे साथ की खुशबू को महसूस करता हूं,
मैं हर पल तुझे महसूस करता हूं।

जब लोग मदीरा के नशे में लैश होकर बहकते है, तब मैं तुम्हारे आंखों में डूबे होने के नशे को महसूस करता हूं,
मैं हर पल तुझे महसूस करता हूं।

जब भी मैं आसपास के पेड़ पौधों के पत्तियों को लहराते देखता हूं,
सच मानो उस में एक सुकून होता है,
सुकून वाली खुशबू होती है,
और जब वो पत्तियां हवा में मखमली रूप में लहराती है,
तो उन लहराती- सरसराति पत्तियों में, मैं
तुम्हारे बालों को महसूस करता हूं,
मैं हर पल तुझे महसूस करता हूं।

जब तुम साथ नहीं होती हो तो,
कुछ पल के लिए आंखो को बंद कर
तुम्हें सोच कर मुस्कुरा लेता हूं, फिर अपनी
अपनी कविताओं के हर एक पंक्तियों में, मैं
तुमको महसूस करता हूं,
मैं हर पल तुझे महसूस करता हूं।

जब भी कहीं मैं किसी ख़ूबसूरत कला कृति को देखता हूं
उसके संरचनाओं को देखता हूं
पता नहीं क्यों उन हर एक कारीगरी में तुम्हारे रंग बिरंगे मासूमियत को महसूस करता हूं,
मैं हर पल तुझे महसूस करता हूं।

मैं तुमको हर जगह, हर पल,
हर मौसम, सभी चीजों में, खुद में भी केवल
तुम्हें महसूस करता हूं,
मैं हर पल तुझे महसूस करता हूं।

शायद मुझे नहीं पता कौन हो तुम,
शायद, मुझे नहीं पता कौन हो तुम
फिर ये शायद क्यों है?
कुछ भी हो, मैं
तुम्हें हर लम्हों में महसूस करता हूं,
मैं हर पल तुझे महसूस करता हूं।


If you have any experience of this type of situation, you are free to share in the comment box.


Friends, if you have any questions, suggestions, feedback regarding this post , you can leave in the comment box. And if you like reading my work, do share it with your friends (on whatever social media you deem appropriate). It would be amazing to have more people reading my compositions. Please help my infinity grow bigger ∞


This content , ‘ मैं हर पल तुझे महसूस करता हूं ‘ is under copyright of RhYmOpeDia.

imkeshavsawarn | © 2020 RhYmOpeDia


The First Things You Should do here at RhYmOpeDia:


Published by Keshav Sawarn

I'm not perfect bcz im not fake....

24 thoughts on “मैं हर पल तुझे महसूस करता हूं

  1. एक बार फिर ईमेल पर आपका नोटिफिकेशन का आना, मेरा पढ़ना और खुश हो जाना। बहुत बहुत धन्यवाद!

    Liked by 1 person

  2. The emotions and feelings of separation and the spirit of true love are very well explained..
    Beautiful poem Keshav.. Keep the good work up..

    Glad to see your work after such a long time..

    Liked by 1 person

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d bloggers like this: