असफल या फिर सफल ?

मोबाइल, फेसबुक और अखबार उन बच्‍चों से भरे हैं, जिन्‍होंने दसवीं/बारहवीं में शानदार प्रदर्शन किया. बधाई ऐसे बच्‍चों के गले का हार बन गई है. मिसाल के लिए हमेशा घर की खिड़की से बाहर झांकते समाज में बच्‍चों की यह कामयाबी जितना उनका भला नहीं करती उससे कहीं अधिक उनका नुकसान करती है.
सफल बच्‍चा उस बच्‍चे से कैसे बेहतर हो सकता है, जो तय समय में रटी/समझी चीजें ठीक से नहीं लिख पाया.
यह समझ पाना बहुत मुश्किल है कि कैसे एक कम नंबर पाने वाले बच्‍चे को उस बच्‍चे से कमज़ोर कहा जा सकता है, जिसके नंबर उस बच्‍चे से अधिक आए हैं. बात केवल भारत की नहीं है, दुनिया के तमाम बड़े देश इस बात की गवाही देते हैं कि वहां के इतिहास, विज्ञान, शोध, राजनीति, कला, सिनेमा में जितना योगदान कम नंबर लाने वालों का है, उतना दूसरे किसी का नहीं है.
नोबल पाने वालों की सूची इस बात का दूसरा सबसे बड़ा प्रमाण है कि बच्‍चे केवल स्‍कूल में फेल होते हैं. समस्‍या स्‍कूल की परीक्षा प्रणाली में है, उन बच्‍चों में नहीं, जो वहां कथित रूप से कमज़ोर घोषित किए जाते हैं. यह पोस्‍ट उनके लिए नहीं है, जिनके नंबर बहुत अच्‍छे आए. उनके लिए तो समाज बाहें फैलाए बैठा है. यह उनके लिए है, जिनकी नजरें, कंधे झुके हैं. जो खुद को हारा, टूटा महसूस कर रहे हैं.

मैंने कही किसी मैगज़ीन में कितनी खूबसूरत बात पढ़ी है,

‘CBSE का रिजल्ट आया. कई लोगों ने टॉप किया और बहुत से बच्चों के आशा से कम नंबर आए. जिनके नंबर कम आए, उम्मीद मुझे उन्हीं से है, क्योंकि पिछले 70 साल में टॉपर्स ने देश के लिए क्या किया, इसके बारे में किसी को कुछ नहीं पता. हां, टॉपर्स ने अपने लिए बहुत कुछ किया, यह मैं बखूबी जानता हूं. इसलिए जिनके कम नंबर आए, उन्हें बहुत बधाई. देश और समाज को उनसे बहुत आशाएं हैं.’

इस बात को थ्‍योरी मत समझिए. न ही इसे ऐसे देखा जाना चाहिए कि अरे इन बातों से कुछ नहीं होता. जिंदगी की दौड़ बड़ी क्रूर है. जानलेवा प्रतिस्‍पर्धा में बच्‍चा कैसे टिकेगा. असल में ऐसा कहते ही हम मनुष्‍य और मनुष्‍यता दोनों पर संदेह के घोड़े दौड़ा देते हैं. दसवीं और बारहवीं की परीक्षा असल में कोई मील का पत्‍थर नहीं है. यह हमारे पुराने, सड़ गल चुके सिस्‍टम की कमी है कि उसे अब तक बच्‍चों की प्रतिभा को सामने लाने का कोई दूसरा तरीका नहीं मिला है.
इसलिए सरकार, समाज और स्‍कूल अपनी पुरानी हो चुकी सोच को बदल नहीं पा रही हैं. हम दुनिया के उन देशों की ओर नहीं देख रहे हैं, जो आज भी बच्‍चे को सात साल के बाद स्‍कूल भेजने के नियम पर कायम हैं. हम उन अमेरिकन कॉलेजों के बारे में आंख-कान बंद किए हैं, जहां सबसे अधिक समय इस बात पर दिया जाता है कि आपकी रुचि क्‍या है. बेकार की चीजों में समय मत लगाइए, खुद को समझिए.
अंग्रेजों को कितना ही कोसते रहिए कि वह आपको क्‍लर्क बना गए. लेकिन उनको गए तो जमाना बीत गया. पीढ़ियां आईं और चली गईं, लेकिन स्‍कूल वैसे ही रहे. शिक्षा की रेल उसी पटरी पर दौड़ी जो अंग्रेज बिछा गए थे. हमने अपने टैगोर की विश्‍व भारती वाला रास्‍ता नहीं चुना. हमने शिक्षा के बारे में गांधी, बुद्ध और आइंस्‍टाइन की बातें नहीं सुनी. हम बच्‍चों को ढांचा बनाने में लग गए.
आप गमलों में पौधे उगाकर पर्यावरण को नहीं बचा सकते. उसके लिए जंगल चाहिए. ठीक इसी तरह नई, वैज्ञानिक सोच-समझ वाले नजरिए वाला देश बड़ों से नहीं बनेगा. उसका बीज बच्‍चों से तैयार होगा. इसलिए बच्‍चों को मार्कशीट के आधार पर तौलना बंद करना होगा. यह अपने ही खिलाफ किया जा रहा सबसे बड़ा अपराध है.
इसलिए, अपने उन बच्‍चों को जो आज नंबर की होड़ में पिछड़कर आत्‍महत्‍या तक को निकल रहे हैं, संभालिए. समझाइए कि स्‍कूल दुनिया से मिलने का रास्‍ता तो दूर, पगडंडी तक नहीं हैं. हमेशा याद रखिए और दूसरों से साझा करिए,

बच्‍चा असफल नहीं होता, असफल स्‍कूल होता है. बच्‍चे हमेशा मंजिल तक पहुंचते हैं, बशर्ते हम उनको बता सकें कि जाना कहां है.’

और यह हमारा और हमारे समाज का ही काम है, बच्‍चों का नहीं.

Image Source : Internet

This content, ‘ असफल या फिर सफल ? ‘ is under copyright of RhYmOpeDia.

imkeshavsawarn |

© 2018 RhYmOpeDia

How about this content? Comment!

Published by Keshav Sawarn

I'm not perfect bcz im not fake....

28 thoughts on “असफल या फिर सफल ?

      1. Yes you are absolutely right and i agree with you….but if you take more stress that is also a beautiful path for spoiling the life…and by taking stress if someone can be successful than I’ll not agree

        Liked by 2 people

      2. Stress is not anxiety ,its something which everyone on this planet faces ,let it be animals ,plants ,humans ,board exam is just like another exam ,prepare well ,score well ,otherwise don’t cry or attempt suicide ,its simple , if you think you are not good at studies ,chose something that suits you and prove yourself in it .

        Liked by 1 person

      3. Yes offcource you are right, and i’m not in the favour of commitinh sucide , or took some life ending steps……but what with those who got unsuccessful in the examination….and as i know there is only 1 topper ..what about the rest??

        Liked by 1 person

      4. If you are unsuccessful ,prepare well and take test again and prove yourself ,moreover accept your potential ,deer and lion can’t be placed in one bracket , if you are capable of 50% ,be happy with it .

        Liked by 1 person

      5. But what about those who got failed in that examination and due to fear or under pressure of parent’s , relatives , or someone else….why there is not a way in which they also got a chance to do good something in the life

        Liked by 1 person

      6. This society creates problem for them…i saw this thing…if one score 95% and another one 70% ……then
        2nd one becomes the devil…why?? I really don’t understand this…than if 2 nd one took some unwilling step….who is responsible for this?

        Liked by 1 person

      7. Yes, the person who is pressurized by the so – called norms of society is responsible for his or her downfall. But, isn’t society responsible for creating that pressurized environment? Isn’t it society who is not ready to accept it’s fault and modify it? Isn’t it good to become a better individual or a society, for instance?

        Liked by 1 person

      8. No, one can’t blame society ,circumstances etc for one’s actions ,society doesn’t procure pistol and shoot one ,its person ,himself who does such stupid things .

        Like

      9. Look, I am not at all supporting suicide here. The fact, I want to highlight is that you admit it or not, but, we build society and if we are not ready to accept our faults, who’s gonna do that?? How are we gonna improvise ourselves and society?? The society should not bound the calibre of a person in terms of score. Examination should not be the only criteria for judgement because anyone who is good at rot memorization can score good marks. Thus, who fail to cram facts, failed to get good score..
        Albert Einstein failed to cram history dates and was thus, became a drop out (from school). But, now, his achievements are well known by every individual. “Education” is important but why are we bounding this in terms of marks??

        Liked by 1 person

      10. Life is test ,every step is an exam ,if one can’t cope pressure ,he has got no right to exist , there is nothing like cramming ,when a kid learns alphabets ,its also kind of cramming ,but without that one can’t learn words ,so every type of education is important .

        Like

      11. Undoubtedly, life is a test but we are making it a race. One examination cannot decide one’s worth. Learning and cramming are two different concepts. Learning is a life long process, thus, it remains with a kid for a long period of time but cramming is temporary. A child crams, vomits the answers (or facts) in his or her exam and forgets whatever he or she wrote. Today, “getting good marks” or “running ahead in the race” is the only concern of parents and society. Thus, the pressure created is not positive and leads to stress level. Education is a wide term. Anyone and everyone who is able to earn his or her livelihood with respect and is not literate, is educated. But, you cannot call every literate, an educated person. Now-a-days, education has confined to bookish knowledge and scores where practical knowledge and life skills are ignored…

        Liked by 1 person

  1. You pointed out the exact problem with our education system. Our education system is not building the future pillars but the toppers who cramp facts (or use leak papers) to earn good marks. We blame Britishers for disturbing our education system, but are we not responsible that after such long period also, we are following the same pattern…..
    This is an awesome article. The way, you explained the tragic life of people who are intelligent and talented but are deprived of opportunities and good score. You nailed it..

    Liked by 1 person

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d bloggers like this: